2:56:43 PM , Thursday , 23 - February - 2017
Home / Lifestyle / Health & Fitness / दिल्ली में बन रहे लंदन वाले हालात, स्मॉग से मर गए थे 4000 लोग
bigstock-little-girl-with-toys-wearing-16362665-e1407471051361

दिल्ली में बन रहे लंदन वाले हालात, स्मॉग से मर गए थे 4000 लोग

दिल्ली और एनसीआर में छाई धुंध और वायु प्रदूषण ने सारे रेकॉर्ड तोड़ दिए हैं। हवा इतनी जहरीली हो चुकी है कि एक्सपर्ट्स ने चेतावनी दी है कि अगर हालात जल्द न सुधरे तो लंदन में 1952 में हुई हजारों मौतों जैसी स्थिति भारत में भी हो सकती है

टूट रहे रेकॉर्ड
शहर की हवा की क्वॉलिटी रविवार को इस सीजन के सबसे निचले स्तर पर पहुंच गई। वहीं, खराब एयर क्वॉलिटी में 24 घंटे का औसत अधिकतम सीमा के पार जाने का अंदेशा है। राजधानी में कई जगहों पर सांसों के जरिए नुकसान पहुंचाने वाले प्रदूषक PM 2.5 और PM 10 से जुड़ी रियल टाइम रीडिंग हवा के सुरक्षित स्तर से 17 गुनी ज्यादा थी। दिल्ली में रविवार शाम चार बजे 24 घंटे का एयर क्वॉलिटी इंडेक्स का स्तर 497 पर पहुंच गया। यह सीजन के सबसे खराब स्तर अधिकतम 500 से महज तीन ही कम है। 500 का स्तर दिवाली के बाद पहुंच गया था। सीपीसीबी और अन्य संस्थाओं की ओर से चलाए जा रहे मॉनिटरिंग स्टेशनों के आउर्ली (हर घंटे) एयर क्वॉलिटी इंडेक्स का आंकड़ा 500 के पार है, जो अधिकतम सीमा से भी ज्यादा है।

‘लंदन जैसे हालात’
एक्सपर्ट्स का कहना है कि शहर की हवा में सल्फर डाई ऑक्साइड (SO2) की मात्रा फिलहाल नियंत्रण में है। हालांकि, अन्य मानदंडों की बात करें मसलन-हवा में मौजूद कई किस्म के छोट कण, तो हालात वैसे ही खराब हैं, जैसे 1952 में लंदन के थे। सेंटर फॉर साइंस एंड इन्वाइरनमेंट (CSE) की अनुमित्रा रॉयचौधरी ने कहा, ‘लंदन में 1952 में स्मॉग की वजह से 4 हजार लोगों की असामयिक मौत हो गई। उस वक्त एसओटू के उच्च स्तर के अलावा PM लेवल भी 500 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर था।’

उन्होंने कहा, ‘यहां एसओटू का स्तर भले ही उतना ज्यादा न हो, लेकिन दिवाली पर हवा में कई तरह की गैसों का स्तर बढ़ा है। कुल मिलाकर हवा जहरीली कॉकटेल में तब्दील हो गई है। अगर प्रदूषण का यह स्तर बरकरार रहा तो दिल्ली में भी असामयिक मौतें हो सकती हैं।’ बता दें कि सीएसई ने इस साल अपनी रिपोर्ट में कहा था कि दिल्ली में हर साल 10 से 30 हजार लोग वायु प्रदूषण की वजह से मारे जाते हैं।

About admin

Check Also

Happy-Kiss-Day-620x400

इस वजह से मनाया जाता है ‘किस डे’

Share this on WhatsApp14 फरवरी पूरी दुनिया में प्यार के तौर पर मनाया जाता है। …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Twitter Auto Publish Powered By : XYZScripts.com