7:10:31 AM , Tuesday , 17 - October - 2017
Home / Business / सावधान! प्रैंक ऐप है, करंसी चेक नहीं करता Modi Keynote ऐप
msid-55538215width-400resizemode-4modi-keynote

सावधान! प्रैंक ऐप है, करंसी चेक नहीं करता Modi Keynote ऐप

500 और 2000 रुपये के नए नोटों को बहुत से लोग अभी तक देख नहीं पाए हैं। इसी बात का फायदा उठाते हुए कुछ शातिर अपराधी लोगों को ठगने में जुट गए हैं। वे स्कैन और प्रिंट करके तैयार किए गए फर्जी नोटों को चलाने की कोशिश कर रहे हैं। इस बीच कई तरह की अफवाहें भी फैल रही हैं। ऐसी ही अफवाह एक प्रैंक ऐप Modi Keynote के बारे में फैली कि इसके जरिए यह जांच की जा सकती है कि नए नोट असली हैं या नकली।

हमने आपको दिखाया था कि कैसे इस ऐप को मस्ती में इस्तेमाल किया जा सकता है। मगर बहुत से लोग इस ऐप को यह कहकर प्रचारित करने लगे हैं कि इसके जरिए असली और नकली नोटों में फर्क किया जा सकता है। सोशल मीडिया पर यह बात फैल गई थी कि 500 और 2000 रुपये के नए नोट असली हैं या नकली, इस बात का पता Modi Keynote ऐप के जरिए लगाया जा सकता है। कहा जा रहा था कि अगर नोट पर विडियो प्ले हो तो समझो कि नोट असली है। जबकि हकीकत यह है कि न सिर्फ यह ऐप, बल्कि इस तरह के अन्य सभी ऐप प्रैंक ऐप हैं और ये करंसी की वैधता नहीं जांच सकते।

Modi Keynote ऐप फोन के कैमरे को इस्तेमाल करते हुए नोटों को स्कैन करता है। अगर सामने 500 और 2000 का नोट होता है तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाषण का वह विडियो प्ले होने लगता है, जिसमें उन्होंने पुराने नोटों को बैन करने का ऐलान किया था। दरअसल इस ऐप को इस तरह से डिवेलप किया गया है कि स्कैन होने पर नए नोट का रंग और डिजाइन नजर आए तो विडियो प्ले होने लगे। मगर यह ऐप असली और नकली नोट का फर्क पता नहीं कर सकता।

हमने जांच की तो पाया कि कंप्यूटर स्क्रीन पर किसी नोट की तस्वीर लगाने के बाद उसे इस ऐप के जरिए स्कैन किया जाए तब भी विडियो प्ले होता है (नीचे तस्वीर देखें)। इसी तरह से अगर नए नोटों की फोटो कॉपी को भी स्कैन किया जाए, तब भी यह विडियो प्ले होगा। क्योंकि यह ऐप सिक्यॉरिटी फीचर्स चेक करने के बजाय सिर्फ नोट का डिजाइन देखता है। यानी इसके जरिए आप करंसी की जांच नहीं कर सकते।

About admin

Check Also

train_1505806109

No services tax till railway e ticketing till march 2018

Share this on WhatsAppयात्रियों को ट्रेनों के ई-टिकट पर मार्च 2018 तक कोई सेवा शुल्क …